आचार संहिता का सख्ती से पालन किया जायेगा – जिला निर्वाचन अधिकारी

सहारनपुर 30 अक्टूबर 2017
# आचार संहिता का सख्ती से पालन किया जायेंगा- जिला निर्वाचन अधिकारी
# निजी भवनों पर बैनर, पोस्टर व होर्डिंग्स लगाने की अनुमति लेनी होगी
# राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक सम्पन्न

जिला मजिस्ट्रेट/जिला निर्वाचन अधिकारी पी0के0पाण्डेय ने कहा कि नगर निकाय सामान्य निर्वाचन-2017 में आचार संहिता का सख्ती से पालन होगा। उन्होंने कहा कि शांतिपूर्ण निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए जिला प्रशासन पूरी तरह से तैयार है। उन्होंने कहा कि किसी को भी चुनाव में बदअमनी फैलाने की इज्जात नहीं दी जायेंगी। उन्होंने कहा कि निजी भवनों पर बैनर, पोस्टर या होर्डिग्स लगाने के लिए अनुमति की आवश्यकता होगी। चुनाव के दौरान उम्मीदवारों के खर्चों पर भी निगरानी रखी जायेंगी।

जिलाधिकारी ने आज यहां कलेक्ट्रेट सभागार में राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ वार्ता के दौरान यह बात कही। उन्होंने कहा कि सभी राजनीतिक पार्टियां आचार संहिता का सख्ती से पालन करें। उन्होंने कहा कि आचार संहिता के उल्लघंन में नियामनुसार कार्यवाही की  जायेगी। उन्होंने कहा कि हैण्डबिल और पोस्टर में ऐसी भाषा का प्रयोग ना करें जो किसी व्यक्ति या समाज को आहत करती हो। इसके लिए उम्मीदवार अपने आर0ओ0 के यहां से अनुमति लेकर ही कोई पोस्टर या हैण्डबिल का प्रकाशन करायें। उन्होंने कहा कि हैण्डबिल व पोस्टर पर मुद्रक व प्रिटिंग प्रेस का नाम और संख्या ना लिखें जाने वाले उम्मीदवार पर भी कार्यवाही की जायेंगी। उन्होंने कहा कि रात्रि 10.00 बजे से प्रातः 6.00 बजे तक किसी भी प्रकार के प्रचार पर पूरी तरह पाबन्दी लगाई जायेंगी। साथ ही प्रातः 6.00 बजे से रात्रि 10.00 बजे तक ही उम्मीदवार लाउण्डस्पीकर के माध्यम से प्रचार कर सकेंगे। प्लास्टिक के झण्डें पूर्ण रूप से प्रतिबंधित होंगे।

जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि नामांकन के स्थलों व कक्षों का चयन कर लिया गया है। मेयर पद के लिए अपर जिला मजिस्ट्रेट (वित्त एवं राजस्व) के कार्यालय कक्ष में नामांकन पत्र लिये जायेंगे। उन्होंने कहा कि प्रत्येक उम्मीदवार को अदेयता प्रामण पत्र  प्रस्तुत करना अत्यंत आवश्यक होगा। उन्होंने कहा कि मेयर के उम्मीदवार के नामांकन के समय ही आॅन लाईन फोटो आर0ओ0कक्ष में लिया जायेंगा। जबकि नगर पालिका परिषद व नगर पंचायातों में अध्यक्ष के उम्मीदवारों का फोटो स्कैन किया जायेगा। उन्होंने कहा कि उम्मीदवारों को नामांकन के समय अपना आधार नम्बर व मोबाइल नम्बर भी दिया जाना आवश्यक होगा।

इस अवसर पर राजनीति दलों के प्रतिनिधियों को आॅन लाईन ई0वी0एम के रेण्डमाईजेशन की प्रक्रिया भी करके दिखाई गयी। नगर निगम के चुनाव सम्पन्न कराने के लिए 2006 में निर्मित ईसीआईएल की 2190 बैलेट यूनिट तथा 1890 कंट्रोल यूनिट प्राप्त हुई है। ईसीआईएल के इंजीनियरों द्वारा जांच करने के बाद ई.वी.एम. को पुलिस सुरक्षा में रखवा दिया गया है। इस अवसर पर भारतीय जनता पार्टी के महानगर अध्यक्ष अमित गगनेजा, विशाल गुहा, बहुजन समाज पार्टी के जनेश्वर व नीरज महेश्वरी, कांग्रेस के अंकित वालिया, कुनाल वालिया, संजीव कुमार, राष्ट्रीय लोकदल के  चैधरी धीर सिंह, आम आदमी पार्टी के  योगेश दहिया, आदिल हसन व मंजू राणा, जनप्रवक्ता कांग्रेस के  गनेश दत्त शर्मा तथा सीपीआई के प्रतिनिधियों सहित वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी मौजूद थे।

इससे पूर्व जिला मजिस्ट्रेट ने नगर निकाय समान्य निर्वाचन-2017 से जुड़े प्रभारी अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक में कहा कि शांतिपूर्वक और पारदर्शी चुनाव कराने के लिए सभी अधिकारी निर्भिक होकर कार्य करें। उन्होंने कहा कि किसी भी व्यक्ति को आचार संहिता का उल्ल्घंन नहीं करने दिया जायेगा। उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिये कि पोलिंग पार्टियों को के लिए मैडिकल किट का निर्माण करायें तथा चुनाव व्यय पर नजर रखने के लिए जिलाधिकारी की अध्यक्षता में समित का भी गठन कर खर्चों पर निगाह रखने के निर्देश दिये।

श्री पाण्डेय ने कहा कि अधिकारी चुनाव के लिए वाहनों के अधिग्रण की कार्यवाही शुरू कर दें। उन्होंने मुख्य विकास अधिकारी को भी निर्देश दिये कि पीठासीन अधिकारियों के प्रशिक्षण के लिए भी कार्ययोजना को अंतिम रूप देकर आवश्यक कार्यवाही करें। उन्होंने कहा कि जितनी शुद्ध आपकी मतदाता सूची होगी उतना ही शुद्ध मतदान होगा। उन्होंने कहा कि अधिकारी अपने-अपने क्षेत्रों के मतदान स्थलों का निरीक्षण कर आवश्यक सुविधा मुहैया करा लें, जिससे चुनाव के दौरान कोई परेशानी ना उठानी पड़े। उन्होंने अधिशासी अधिकारियों को भी निर्देश दिये कि वे अपने-अपने क्षेत्र में पोस्टर, बैनर, होर्डिग्स तथा स्वागत गेट हटाकर प्रमाण पत्र प्रस्तुत करें। उन्होंने कहा कि अगर प्रमाण पत्र देने के बाद जिस भी क्षेत्र में कोई पोस्टर या बैनर बिना अनुमति के पाया गया तो सम्बधिंत के विरूद्ध कठोर कार्यवाही की जायेंगी।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी संजीव रंजन, नगर आयुक्त गौरव वर्मा, अपर जिला मजिस्ट्रेट (वित्त एवं राजस्व) विनोद कुमार, मुख्य चिकित्सा अधिकारी बी.एस.सोढ़ी, नगर मजिस्ट्रेट राजेश कुमार, उप जिलाधिकारी संगीता व डीपी सिंह सभी वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी मौजूद थे।